बृहस्पति अष्टोत्तर शतनामावली

जिन जातकों की जन्म कुंडली में राहु/गुरु का चांडाल योग बन रहा हो या गुरु किसी भी प्रकार से पीड़ित हो रहा हो तब उन्हें नित्य प्रति बृहस्पति जी के 108 नाम का जाप करना चाहिए. इससे गुरु चांडाल योग के अशुभ प्रभावों में कमी आती है. विशेष (Important) – जिन लड़कों का यज्ञोपवीत अर्थात…

श्रीदुर्गाष्टोत्तरशतनामस्तोत्रम

ईश्वर उवाच शतनाम प्रवक्ष्यामि श्रृणुष्व कमलानने । यस्य प्रसादमात्रेण दुर्गा प्रीता भवेत सती ।।1।। ऊँ सती साध्वी भवप्रीता भवानी भवमोचनी । आर्या दुर्गा जया चाद्या त्रिनेत्रा शूलधारिणी ।।2।। पिनाकधारिणी चित्रा चण्डघण्टा महातपा: । मनो बुद्धिरहंकारा चित्तरूपा चिता चिति: ।।3।। सर्वमन्त्रमयी सत्ता सत्यानन्दस्वरूपिणी । अनन्ता भाविनी भाव्या भव्याभव्या सदागति: ।।4।। शाम्भवी देवमाता च चिन्ता रत्नप्रिया सदा…

राहुपञ्चविंशतिनामस्तोत्रम

राहुर्दानवमन्त्री च सिंहिकाचित्तनन्दनः । अर्धकायः सदा क्रोधी चन्द्रादित्यविमर्दनः ।।1।। रौद्रो रुद्रप्रियो दैत्यः स्वर्भानुर्भानुभीतिद:। ग्रहराजः सुधापायी राकातिथ्यभिलाषुक: ।।2। कालदृष्टिः कालरूपः श्रीकण्ठहृदयाश्रय: । विधुन्तुदः सैंहिकेयो घोररूपो महाबल: ।।3।। ग्रहपीडाकरो दंष्ट्री रक्तनेत्रो महोदर: । पञ्चविंशतिनामानि स्मृत्वा राहुं सदा नर: ।।4।। यः पठेन्महती पीडा तस्य नश्यति केवलम् । आरोग्यं पुत्रमतुलां श्रियं धान्यं पशूंस्तथा ।।5।। ददाति राहुस्तस्मै यः पठते स्तोत्रमुत्तमम्…