खण्डग्रास चन्द्रग्रहण – 16/17 जुलाई 2019

खण्डग्रास चन्द्रग्रहण आषाढ़ माह की पूर्णिमा को मंगलवार को 16/17 जुलाई की मध्यरात्रि में समस्त भारत में खण्डग्रास के रुप

पढ़ना जारी रखें

महालक्ष्म्यष्टकम् 

इन्द्र उवाच  नमस्तेSस्तु महामाये श्रीपीठे सुरपूजिते । शंखचक्रगदाहस्ते महालक्ष्मि नमोSस्तु ते ।।1।। अर्थ – इन्द्र बोले – श्रीपीठ पर स्थित

पढ़ना जारी रखें

श्रीलक्ष्मी स्तोत्रम्

श्रीलक्ष्मी स्तोत्रम् सिंहासनगत: शक्रस्सम्प्राप्य त्रिदिवं पुन: । देवराज्ये स्थितो देवीं तुष्टावाब्जकरां तत: ।।1।। अर्थ – इन्द्र ने स्वर्गलोक में जाकर

पढ़ना जारी रखें

श्रीललिताष्टोत्तरशतनामावलि: 

ऊँ ऎं हृीं श्रीं  1) ऊँ ऎँ हृीं श्रीं रजताचलश्रृंगाग्रममध्यस्थायै नमो नम: 2) ऊँ ऎँ हृीं श्रीं हिमाचलमहावंशपावनायै नमो नम:

पढ़ना जारी रखें

उत्तराभाद्रपद नक्षत्र का उपचार

जन्म नक्षत्र यदि उत्तराभाद्रपद होकर वह पाप अथवा अशुभ प्रभाव में स्थित है तब इसका उपचार अवश्य करना चाहिए अन्यथा

पढ़ना जारी रखें

श्री पार्वती चालीसा और आरती

श्री पार्वती चालीसा  ।।दोहा।। जय गिरि तनये दक्षजे शंभु प्रिये गुणखानि । गणपति जननी पार्वती अम्बे ! शक्ति ! भवानि

पढ़ना जारी रखें