व्रत व त्यौहार दिसंबर 2017

  तिथि(Dates) दिन(Days) त्यौहार(Festivals) 1 दिसंबर शुक्रवार प्रदोष व्रत, भरणी दीपम 2 दिसंबर शनिवार पिशाचमोचन श्राद्ध, शिव चतुर्दशी व्रत 3 दिसंबर रविवार मार्गशीर्ष पूर्णिमा, श्रीदत्तात्रेय जयन्ती, त्रिपुरभैरव जयन्ती, श्रीसत्यनारायण व्रत 6 दिसंबर बुधवार श्रीगणेश चतुर्थी व्रत 10 दिसंबर रविवार रूक्मिणी अष्टमी, अष्टका श्राद्ध 12 दिसंबर मंगलवार पार्श्वनाथ जयन्ती-जैन 13 दिसंबर बुधवार सफला एकादशी व्रत 14…

गण्डमूल नक्षत्र 2017

27 नक्षत्रों में से 6 ऎसे नक्षत्र हैं जिन्हें गण्डमूल नक्षत्र कहा गया है. इनमें 3 नक्षत्र केतु के तो बाकी तीन बुध के नक्षत्र हैं. केतु के अश्विनी, मघा व मूल नक्षत्र हैं तो बुध के आश्लेषा, ज्येष्ठा व रेवती नक्षत्र गण्डमूल कहे जाते हैं. गण्डमूल नक्षत्रों में एक नक्षत्र की समाप्ति पर दूसरे…

विभिन्न वारों(Weekdays) में किए जाने वाले कार्य –

सप्ताह में सात वार होते हैं और सभी का अपना महत्व होता है. आप जब भी कोई नया कार्य आरंभ करें तब एक बार इन वारों में किए जाने वाले कार्यों पर एक निगाह अवश्य डालें ताकि जिस वार में जो काम शुभ होता है, आप उसे उसी वार विशेष से आरंभ कर सकें जिससे…

ग्रह, उनके मंत्र और जाप संख्या

हर ग्रह का अपना एक मंत्र हैं और मंत्रों का जाप कितनी संख्या में करना चाहिए यह भी हर ग्रह के लिए अलग है अर्थात हर ग्रह की जप संख्या अलग होती है. ग्रह का मंत्र और उनकी जप संख्या को तालिका द्वारा दर्शाया गया है. जब किसी ग्रह की महादशा आरंभ होती है तब…

क्यों मनाया जाता है कुंभ पर्व

कुंभ पर्व के स्नान का हिन्दु धर्म में बहुत महत्व माना गया है लेकिन यह पर्व क्यों आरंभ हुआ और कैसे हुआ, इसके विषय में कई मान्यताएँ तथा कथाएँ प्रचलित हैं. वेदों में कुंभ पर्व का आधार सूत्रों व मंत्रों में वर्णित है लेकिन हमारे पुराणों में इस पर्व को मनाने की चार कथाएँ दी…

राहु काल

राहु काल के समय में किसी नये काम को शुरु नहीं किया जाता है परन्तु  जो काम इस समय से पहले शुरु हो चुका है उसे राहु-काल के समय में बीच में नहीं छोडा जाता है. कोई व्यक्ति अगर किसी शुभ काम को इस समय में करता है तो यह माना जाता है की उस…

भद्रा काल विचार

भद्रा को कुछ कार्यों के लिए शुभ नहीं माना जाता है, लेकिन कुछ कार्य ऎसे भी हैं जिनमें भद्रा काल को शुभ तथा ग्राह्य माना गया है. लेकिन यदि आवश्यकता पड़े तब भद्रा मुखकाल का त्याग कर उसके बाद के भाग का समय लिया जा सकता है. भद्राकाल में विवाह करना, बच्चे का मुंडन संस्कार…

गुलिक काल

यदि कोई काम आवश्यक है तो हरेक दिन गुलिक काल होता है जिसमें शुभ काम शुरु किए जा सकते हैं. नीचे दी गई तालिका गुलिक काल की है जो हर दिन हर वार के लिए अलग समय बता रही है. यह भारतीय मानक समयानुसार है. दिन गुलिक काल सोमवार दोपहर 1:30 बजे से दोपहर 3:00…

मार्च 2018 के व्रत व त्यौहार

  तिथि (Dates) दिन (Days) त्यौहार (Festivals) 1 मार्च बृहस्पतिवार फाल्गुन पूर्णिमा, होलिका दहन, होलाष्टक समाप्त, श्रीचैतन्य महाप्रभु जयन्ती, श्रीसत्यनारायण 2 मार्च शुक्रवार वसन्तोत्सव, होला-मेला – श्रीआनन्दपुर साहिब व पाओंटा साहिब), होली पर्व – उत्तर प्रदेश, दिल्ली, हरियाणादि, ध्वजारोहण, धुलैण्डी, होलिका विभूति धारण, धूलिवन्दन, आम्रकुसुम प्राशन 3 मार्च शनिवार सन्त तुकाराम जयन्ती 5 मार्च सोमवार…

अप्रैल 2018 के व्रत व त्यौहार

  तिथि (Dates) दिन (Day) त्यौहार (Festivals) 3 अप्रैल मंगलवार अंगारकी श्रीगणेश चतुर्थी व्रत 4 अप्रैल बुधवार सती अनुसूया जयन्ती 12 अप्रैल बृहस्पतिवार वरुथिनी एकादशी व्रत, श्रीवल्लभाचार्य जयन्ती 13 अप्रैल शुक्रवार प्रदोष व्रत 14 अप्रैल शनिवार वैशाख संक्रांति, पुण्यकाल मध्याह्न 14:34 तक, वैशाखी पर्व, मास शिवरात्रि व्रत 15 अप्रैल रविवार अमावस्या – पितृ कार्य के…

व्रत व त्यौहार मई 2018

  तिथि (Dates) दिन (Days) त्यौहार (Festivals) 1 मई मंगलवार मजदूर(श्रम) दिवस 2 मई बुधवार श्री नारद जयन्ती, वीणादान 3 मई बृहस्पतिवार श्रीगणेश चतुर्थी व्रत 7 मई सोमवार श्रीटैगोर जयन्ती 11 मई शुक्रवार अपरा एकादशी व्रत, भद्रकाली एकादशी – कपूरथला(पंजाब) 13 मई रविवार प्रदोष व्रत, मास शिवरात्रि व्रत 14 मई सोमवार ज्येष्ठ संक्रांति(पुण्यकाल अगले दिन…

व्रत व त्यौहार जून 2018

  तिथि (Dates) दिन (Days) त्यौहार (Festivals) 2 जून शनिवार श्रीगणेश चतुर्थी व्रत 10 जून रविवार पुरुषोत्तमा एकादशी व्रत 11 जून सोमवार सोम प्रदोष व्रत 12 जून मंगलवार मास शिवरात्रि व्रत 13 जून बुधवार अमावस – ज्येष्ठ अधिक मास(मल मास) की समाप्ति 14 जून बृहस्पतिवार द्वित्तीय शुद्ध ज्येष्ठ शुक्ल पक्ष आरंभ, श्रीगंगा स्नान प्रारंभ,करवीर व्रत-सूर्य…