गोविन्दाष्टकम्

चिदानन्दाकारं श्रुतिसरससारं समरसं निराधाराधारं भवजलधिपारं परगुणम्। रमाग्रीवाहारं व्रजवनविहारं हरनुतं सदा तं गोविन्दं परमसुखकन्दं भजत रे।।1।।   महाम्भोधिस्थानं स्थिरचरनिदानं दिविजपं सुधाधारापानं विहगपतियानं यमरतम्। मनोज्ञं सुज्ञानं मुनिजननिधानं ध्रुवपदं ।सदा0।।2।।   धिया धीरैर्ध्येयं श्रवणपुटपेयं यतिवरै- र्महावाक्यैर्ज्ञेयं त्रिभुवनविधेयं विधिपरम्। मनोमानामेयं सपदि हृदि नेयं नवतनुं।सदा0।।3।।   महामायाजालं विमलवनमालं मलहरं सुभालं गोपालं निहतशिशुपालं शशिमुखम्। कलातीतं कालं गतिहतमरालं मुररिपुं।सदा0।।4।।   नभोबिम्बस्फीतं निगमगणगीतं…

अच्युताष्टकम्

अच्युतं केशवं रामनारायणं कृष्णदामोदरं वासुदेवं हरिम्। श्रीधरं माधवं गोपिकावल्लभं जानकीनायकं रामचन्द्रं भजे।।1।।   अच्युतं केशवं सत्यभामाधवं माधवं श्रीधरमं राधिकाराधितम्। इन्दिरामन्दिरं चेतसा सुन्दरं देवकीनन्दनं नन्दजं सन्दधे।।2।।   विष्णवे जिष्णवे शंखिने चक्रिणे रुक्मिणीरागिणे जानकीजानये। वल्लवीवल्लभायार्चितायात्मने कंसविध्वंसिने वंशिने ते नम:।।3।।   कृष्ण गोविन्द हे राम नारायण श्रीपते वासुदेवाजित श्रीनिधे। अच्युतानन्त हे माधवाधोक्षज द्वारकानायक द्रौपदीरक्षक।।4।।   राक्षसक्षोभित: सीतया शोभितो…

महालक्ष्म्यष्टकम्

इन्द्र उवाच नमस्तेSस्तु महामाये श्रीपीठे सुरपूजिते। शंखचक्रगदाहस्ते महालक्ष्मि नमोSस्तु ते।।1।। अर्थ – इन्द्र बोले – श्रीपीठ पर स्थित और देवताओं से पूजित होने वाली हे महामाये! तुम्हें नमस्कार है. हाथ में शंख, चक्र और गदा धारण करने वाली हे महाल़मि! तुम्हें प्रणाम है.   नमस्ते     गरुडारूढे     कोलासुरभयंकरि। सर्वपापहरे देवि महालक्ष्मि नमोSस्तु ते।।2।। अर्थ – गरुड़…

शीतलाष्टकम्

अस्य श्रीशीतलास्तोत्रस्य महादेव ऋषि:, अनुष्टुप् छन्द:, शीतला देवता, लक्ष्मी बीजम्, भवानी शक्ति:, सर्व-विस्फोटकनिवृत्तय अर्थ – इस श्रीशीतला स्तोत्र के ऋषि महादेव जी, छन्द अनुष्टुप, देवता शीतला माता, बीज लक्ष्मी जी तथा शक्ति भवानी देवी हैं. सभी प्रकार के विस्फोटक, चेचक आदि, के निवारण हेतु इस स्तोत्र का जप में विनियोग होता है.   ईश्वर उवाच…

संकष्टनामाष्टकम्

नारद उवाच – Narad Uvach जैगीषव्य मुनिश्रेष्ठ सर्वज्ञ सुखदायक। आख्यातानि सुपुण्यानि श्रुतानि त्वत्प्रसादत:।।1।।   न तृप्तिमधिगच्छामि तव वागमृतेन च। वदस्वैकं महाभाग संकटाख्यानमुत्तमम्।।2।।   इति तस्य वच: श्रुत्वा जैगीषव्योSब्रवीत्तत:। संकष्टनाशनं स्तोत्रं श्रृणु देवर्षिसत्तम।।3।।   द्वापरे तु पुरा वृत्ते भ्रष्टराज्यो युधिष्ठिर:। भ्रातृभि: सहितो राज्यनिर्वेद: परमं गत:।।4।।   तदानीं तु तत: काशीं पुरीं यातो महामुनि:। मार्कण्डेय इति ख्यात:…

श्रीपशुपत्यष्टकम्

ध्यानम् – Dhyanam ध्यायेन्नित्यं महेशं रजतगिरिनिभं चारुचन्द्रावतंसं रत्नाकल्पोज्ज्वलांग परशुमृगवराभीतिहस्तं प्रसन्नम्। पद्मासीनं समन्तात्स्तुतममरगणैर्व्याघ्रकृत्तिं  वसानं विश्वाद्यं विश्वबीजं निखिलभयहरं पंचवक्त्रं त्रिनेत्रम्।।1।।   स्तोत्रम् – Stotram पशुपतिं द्युतिं धरणीपतिं भुजगलोकपतिं च सतीपतिम्। प्रणतभक्तजनार्तिहरं परं भजत रे मनुजा गिरिजापतिम्।।1।।   न जनको जननी न च सोदरो न तनयो न च भूरिबलं कुलम्। अवति कोSपि न कालवशं गतं भजत रे मनुजा…

श्रीविश्वनाथाष्टकम्

गंगातरंगरमणीयजटाकलापं गौरीनिरन्तरविभूषितवामभागम्। नारायणप्रियमनंगमदापहारं वाराणसीपुरपतिं भज विश्वनाथम्।।1।।   वाचामगोचरमनेकगुणस्वरूपं वागीशविष्णुसुरसेवितपादपीठम्। वामेन विग्रहवरेण कलत्रवन्तं । वाराणसी0 ।।2।।   भूताधिपं              भुजगभूषणभूषितांग व्याघ्राजिनाम्बरधरं जटिलं त्रिनेत्रम्। पाशाड़्कुशाभयवरप्रदशूलपाणिं । वाराणसी0 ।।3।।   शीतांशुशोभितकिरीटविराजमानं भालेक्षणानलविशोषितपंचबाणम्। नागाधिपारचितभासुरकर्णपूरं । वाराणसी0 ।।4।।   पंचाननं दुरितमत्तमतंगजानां नागान्तकं दनुजपुंगवपन्नगानाम्। दावानलं  मरणशोकजराटवीनां । वाराणसी0 ।।5।।   तेजोमयं सगुणनिर्गुणमद्वितीय- मानन्दकन्दमपराजितमप्रमेयम्। नागात्मकं सकलनिष्कलमात्मरूपं । वाराणसी0 ।।6।।   रागादिदोषरहितं स्वजनानुरागं वैराग्यशान्तिनिलयं…

श्रीरामाष्टकम्

कृतार्तदेववन्दनं दिनेशवंशनन्दनम्। सुशोभिभालचन्दनं     नमामि   राममीश्वरम्।।1।।   मुनीन्द्रयज्ञकारकं        शिलाविपत्तिहारकम्। महाधनुर्विदारकं      नमामि   राममीश्वरम्।।2।।   स्वतातवाक्यकारिणं   तपोवने     विहारिणम्। करे    सुचापधारिणं    नमामि   राममीश्वरम्।।3।।   कुरंगमुक्तसायकं जटायुमोक्षदायकम्। प्रविद्धकीशनायकं        नमामि   राममीश्वरम्।।4।।   प्लवंगसंगसम्मतिं निबद्धनिम्नगापतिम्। दशास्यवंशसड़्क्षतिं नमामि   राममीश्वरम्।।5।।   विदीनदेवहर्षणं            कपीप्सितार्थवर्षणम्। स्वबन्धुशोककर्षणं           नमामि राममीश्वरम्।।6।।   गतारिराज्यरक्षणं प्रजाजनार्तिभक्षणम्। कृतास्तमोहलक्षणं        नमामि   राममीश्वरम्।।7।।   हृताखिलाचलाभरं स्वधामनीतनागरम्। जगत्तमोदिवाकरं         नमामि   राममीश्वरम्।।8।।   इदं    समाहितात्मना    नरो   रघूत्तमाष्टकम्। पठन्निरन्तरं…

बिल्वाष्टकम्

बिल्वाष्टकम् में बेल पत्र (बिल्व पत्र) के गुणों के साथ-साथ भगवान शंकर का उसके प्रति प्रेम भी बताया गया है. सावन मास में प्रतिदिन बिल्वाष्टकम का पाठ श्रद्धा भक्ति से किया जाना चाहिए.     त्रिदलं त्रिगुणाकारं त्रिनेत्रं च त्रयायुधम् । त्रिजन्मपाप-संहारमेकबिल्वं शिवार्पणम्।।1।।   त्रिशाखैर्बिल्वपत्रैश्च ह्यच्छिद्रै: कोमलै: शुभै: । शिवपूजां करिष्यामि ह्येकबिल्वं शिवार्पणम्।।2।।   अखण्डबिल्वपत्रेण…

भवान्यष्टकम्

न तातो न माता न बन्धुर्न दाता, न पुत्रो न पुत्री न भृत्यो न भर्ता। न जाया न विद्या न वृत्तिर्ममैव, गतिस्त्वं गतिस्त्वं त्वमेका भवानि।।1।।   भवाब्धावपारे महादु:खभीरु:, पपात प्रकामी प्रलोभी प्रमत्त:। कुसंसार-पाश-प्रबद्ध: सदाSहं, गतिस्त्वं गतिस्त्वं त्वमेका भवानि।।2।।   न जानामि दानं न च ध्यान-योगं, न जानामि तन्त्रं न च स्तोत्र-मन्त्रम्। न जानामि पूजां न…

श्रीयमुनाष्टकम्

मुरारिकायकालिमा ललामवारिधारिणी तृणीकृतत्रिविष्टपा त्रिलोकशोकहारिणी। मनोSनुकूलकूल कुंजपुंजधूतदुर्मदा धुनोतु मे मनोमलं कलिन्दनन्दिनी सदा।।1।।   मलापहारिवारिपूरभूरिमण्डितामृता भृशं प्रपातकप्रवंचनातिपण्डितानिशम्। सुनन्दनन्दनांगसंगरागरंजिता हिता। धुनोतु0।।2।।   लसत्तरंगसंगधूत भूतजातपातका नवीनमाधुरीधुरीण भक्तिजातचातका। तटान्तवासदासहंस संसृता हि कामदा। धुनोतु0।।3।।   विहाररासखेदभेद धीरतीरमारुता गता गिरामगोचरे यदीयनीरचारुता। प्रवाहसाहचर्यपूत मेदिनीनदीनदा। धुनोतु0।।4।।   तरंगसंगसैकतांचितान्तरा सदासिता शरन्निशाकरांशु मंजुमंजरीस-भाजिता। भवार्चनाय चारुणाम्बुनाधुना  विशारदा। धुनोतु0।।5।।   जलान्तकेललिकारिचारुराधिकांगरागिणी स्वभर्तुरन्य दुर्लभांग संगतांशभागिनी। स्वदत्तसुप्तसप्त सिन्धुभेदनातिकोविदा। धुनोतु0।।6।।  …

गंगाष्टकम्

पाठकों की सुविधा के लिए यहाँ हम दो गंगाष्टकम का वर्णन कर रहे हैं – पहला महर्षि वाल्मिकी द्वारा रचित और दूसरा श्रीशंकराचार्य जी द्वारा रचित है.   मात:         शैलसुतासपत्नि     वसुधाश्रृंगारहारावलि स्वर्गारोहणवैजयन्ति    भवतीं    भागीरथि    प्रार्थये । त्वत्तीरे  वसतस्त्वदम्बु  पिबतस्त्वद्वीचिषु प्रेड़्खत – स्त्वन्नाम स्मरतस्त्वदर्पितदृश:  स्यान्मे शरीरव्यय:।।1।।   त्वत्तीरे    तरुकोटरान्तरगतो    गंगे    विहंगो    वरं त्वन्नीरे नरकान्तकारिणि वरं मत्स्योSथवा…