मिथुन राशि और प्रेम संबंध

on

gemini

आपकी जन्म राशि मिथुन है और बुध इसका स्वामी होता है. यह राशि स्वभाव से द्वि-स्वभाव होती है और इसका तत्व वायु होता है. बुध के प्रभाव से आप प्रतिभाशाली व्यक्ति होते हैं. आप किसी भी परिस्थिति के अनुसार स्वयं को ढ़ालने में कुशल होते हैं. आप अपनी बात को बहुत ही तर्कपूर्ण तरीके से दूसरों के सामने रख देते हैं. वाकपटु होते हैं और आपकी सबसे बड़ी खूबी यह है कि आप एक ही समय में दोहरा व्यक्तित्व अपना सकते हैं और दोनो में ही संतुलन तथा सामंजस्य बनाकर चलते हैं. आप जिस व्यक्ति जिस रुप में बात करते हैं वह कभी भी यह नहीं जान पाएगा कि आपका कोई दूसरा व्यक्तित्व भी है. आप अपने दोनो ही रुपों में पूर्ण रुप से ईमानदारी रखते हैं.

एक व्यक्तित्व में आप बहुत ही चुलबुले तथा अधिक बोलने वाले होते हैं. अत्यधिक तर्क-वितर्क करते हैं, हर समय बस मजे करने के मूड मे रहते है और बहुत ही मिलनसार होते हैं. आपका दूसरा रुप इसके विपरीत होता है. उसमें आप बहुत ही धीर गंभीर, अशांत से रहने वाले, विचलित मन, चिंतन-मनन में खोए से रहने वाले होते हैं. अकसर कोई ना कोई दुविधा मन में चलती ही रहती है. रुप कोई भी हो दोनो ही हर तरह की परिस्थिति में ढ़ल जाने वाले होते हैं. इसी कारण आप सभी से कुछ अलग व्यक्तित्व के होते हैं. आप किसी भी जगह चले जाएँ आप अपने चारों ओर के लोगों का मनोरंजन करते रहते हैं. वातावरण को जीवंत बनाना आपकी खासियत होती है.

मिथुन राशि का स्वामी बुध होता है और बुध को राजकुमार की उपाधि प्राप्त होती है. इस कारण आप सदा मौज-मस्ती में डूबे रहना पसंद करते हैं. प्रेम संबंधों को लेकर आप मन ही मन बहुत उत्साहित रहते हैं लेकिन आप अपने प्रेम का इजहार करने से झिझकते हैं. आप जिसे भी पसंद करते हैं उसके सामने अपने मन की बात कह नहीं पाते है. इससे आपकी भावनाएँ मन ही मन सुलगती रहती है और मन की भावनाओं को शांत करने के लिए आप इधर-उधर भटकर फ्लर्ट करते रहते हैं. जब तक आपको अपने मनोरुप कोई मिल नहीं जाता है तब तक आप भटकते ही रहते है. आप अपनी ऊर्जाशक्ति के समान ही व्यक्ति की तलाश में रहते हैं जो आपके मन के भावों को पूरी तरह से समझने की क्षमता रखता हो और जैसे ही आपको ऎसा साथी मिल जाता है आप उसके साथ जीवनयापन की योजना बना लेते हैं.

आप अपने प्रेम संबंधों को पूरी ईमानदारी से निभाने का प्रयास करते हैं. प्रेमी के साथ रोमांस करना आपको अच्छा लगता है और आप अपने प्रेम संबंधों में हास्यरस का भाव रखते हैं. आप अपने प्रेम संबंधों में हर चुनौती का सामना अपनी बौद्धिक क्षमता के आधार पर सरलता से कर लेते हैं.

आप बहुत समय तक अकेले नही रह सकते हैं, आपको कोई ना कोई अपने साथ जरुर चाहिए होता है. आप समाज में रहते हुए उसके नियमों का पालन बखूबी करते हैं. आपके मित्रों की संख्या काफी होते है लेकिन जो आपके बौद्धिक स्तर से मिलते हैं वही आपके सबसे ज्यादा करीब होते हैं. आपको साफ स्पष्ट बात करना ज्यादा पसंद है. घुमा-फिरा कर बात करने वालो से आप दूर ही रहते है. आपको जीवन में परिवर्तन पसंद होते हैं. किसी एक धारा पर आप बहुत अधिक समय तक टिक कर नही रह सकते हैं. आपको सुस्त, नीरस तथा उबाऊ जीवन कतई पसंद नही होता है. अगर कुछ नहीं है तब आप संगीत से ही अपना मन बहला लेते हैं.

आपकी खासियत यह है कि आप सभी बातों को जानने की जिज्ञासा रखते हैं. दूसरों से स्नेह करते हैं, परिस्थितिवश स्वयं को मोड़ लेते हैं, अपने विचारों को दूसरो से बांटते है, पढ़ना-लिखना अच्छा लगता है और मित्रों के साथ घूमना बहुत पसंद होता है.

आपकी कमी यह है कि आप एक ही समय में एक साथ कई कामों में खुद को फंसा लेते हैं. इससे आपकी अत्यधिक उर्जा का ह्रास होता है. द्वि-स्वभाव राशि होने से प्रेम संबंधों में अस्थिरता का भाव बना रहता है. वायु तत्व राशि होने से आप योजनाएं बहुत बनाते हैं और बहुत ही छोटी सी बात पर अत्यधिक परेशान हो उठते हैं. एक ही ढर्रे में स्वयं को बांधकर नही रख सकते हैं. नित नए काम करना पसंद करते हैं. आप खुद को एक ही बात से बांधकर सीमित नहीं रख सकते हैं. आपके साथ जो भी व्यक्ति प्रेम संबंध स्थापित करेगा उसे आपकी कमियों को नजर अंदाज करना चाहिए तभी आपके प्रेम संबंध सफलता पा सकते हैं.  

कर्क राशि के लिए यहाँ क्लिक करें(For Cancer sign click here)

Advertisements