महाभागवत – देवीपुराण – बारहवाँ अध्याय  

इस अध्याय में शंकर जी का योनिपीठ कामरूप (कामाख्या) में जाकर तपस्या करना है, जगदम्बा द्वारा प्रकट होकर शीघ्र ही

पढ़ना जारी रखें

महाभागवत – देवीपुराण – ग्यारहवाँ अध्याय 

इस अध्याय में त्रिदेवों द्वारा जगदम्बिका की स्तुति करना, देवी का भगवान शंकर को पार्वती रूप में पुन: प्राप्त होने

पढ़ना जारी रखें

महाभागवत – देवी पुराण – पाँचवाँ अध्याय 

इस अध्याय में दक्षप्रजापति की शिव के प्रति द्वेषबुद्धि, महर्षि दधीचि द्वारा दक्ष को समझाना तथा भगवान शिव के माहात्म्य

पढ़ना जारी रखें

महाभागवत – देवीपुराण – तीसरा अध्याय 

तीसरे अध्याय में देवी माहात्म्य का वर्णन है, देवी द्वारा त्रिदेवों को सृष्ट्यादि के कार्यों में नियुक्त करना, आदिशक्ति का

पढ़ना जारी रखें