होली पूजन से जुड़े चमत्कारिक उपाय

 

images (3)

होलिका पूजन फाल्गुन माह की पूर्णिमा को किया जाता है. होलिका दहन से पूर्व होलिका का पूजन किया जाता है और अगले दिन होली का त्यौहार रंगों से खेलकर मनाया जाता है. होली से जुड़े कई उपाय हैं जिन्हें करने से पीड़ित व्यक्ति की समस्याओं का हल हो सकता हैं उनमें से कुछ उपाय निम्नलिखित हैं :-

1) यदि किसी लड़की का विवाह होने में काफी देरी हो रही है तब होलिका पूजन के दिन वह लड़की अपने हाथ से एक उपाय कर सकती है जिससे उसका विवाह शीघ्र तय हो सकता है. लड़की को होली के दिन थोड़ा सा हरा धनिया खरीदना है और शाम के समय उसे उस जगह जाना है जहां औरतें होलिका पूजन कर रही हो. उस लड़की को हरा धनिया हाथ में लेकर पूजा करने वाली किसी स्त्री के साथ जाकर खड़े हो जाना चाहिए और जब पूजन हो जाए तब हरे धनिए की कुछ पत्तिया तोड़कर होलिका को अर्पित कर देनी चाहिए. बाकी बचा सारा धनिया वह गाय को खिला दे. इसके बाद वह ध्यान रखें कि होलिका दहन किस दिन हुआ था क्योंकि उसी दिन 21 सप्ताह तक नियमित रुप से उसे गाय को हरा धनिया खिलाना होगा. माना होलिका दहन बुधवार को हुआ है तो 21 बुधवार तक उसे हरा धनिया गाय को खिलाना होगा. ऎसा करने पर उसके विवाह की बातों का सिलसिला घर में शुरु हो जाएगा और शीघ्र ही विवाह भी संपन्न हो जाएगा.

2) यदि किसी व्यक्ति पर बहुत सा कर्ज चढ़ गया हो तब उसे श्रीकृष्ण का एक चित्र लाना होगा जिसमें वह गाय के आगे खड़े होकर बांसुरी बजा रहे हों. इस चित्र को अपनी दुकान, आफिस अथवा घर में लगाया जा सकता है. ऎसा करने पर जो व्यापार करते हैं उनका व्यापार तेजी से वृद्धि करेगा और कर्ज भी आगे नहीं बढ़ेगा. पहले से चढ़ा हुआ कर्ज उतर जाएगा.

3) यदि कोई व्यक्ति धन में वृद्धि चाहता है तब होलिका दहन के समय एक उपाय कर सकता है. होलिका पूजन के दिन कुछ चावल के दाने लें और उन चावलों में हल्दी मिलाकर उन्हें पीला कर लें. इन चावलों को एक डिब्बी में रख लें. यदि चाँदी की डिब्बी मिल जाती है तो और भी अच्छा होगा. इसी डिब्बी में 3 कमलगट्टे के दाने तथा एक ताँबे का सिक्का भी रख दें और डिब्बी को एक लाल कपड़े में लपेट लें. जब होलिका दहन हो रहा हो तब इस डिब्बी को हाथ में लेकर 7 बार परिक्रमा करें. परिक्रमा करते समय दिल तथा दिमाग से मन ही मन होलिका से प्रार्थना करते रहे कि आपके यहाँ आर्थिक समस्याएँ समाप्त हो और धन की वृद्धि हो. इसके बाद धन वाले स्थान पर इस डिब्बी को रख दें. ऎसा करने पर घर में अन्न-धन की वृद्धि होती रहेगी.

4) यदि किसी व्यक्ति को संतान संबंधी कष्ट हो या संतान प्राप्ति में रुकावटे आ रही हों तब होलिका दहन से पहले श्रीकृष्ण भगवान की एक सुंदर सी पोशाक बनवा लें और श्रीकृष्ण मंदिर में अर्पित कर दे. यदि उसी दिन भगवान कृष्ण को वह पोशाक पहनाई जा सकती है तो उत्तम बात होगी. ऎसा करते हुए संतान कल्याण की कामना मन ही मन करते रहें. ऎसा करने से सुख समृद्धि बढ़ने के साथ संतान संबंधी सभी कष्ट दूर होते हैं.

इस उपाय को दूसरे तरीके से भी किया जा सकता है. आप बच्चे के साईज की एक पोशाक खरीदें और वह पोशाक लेकर श्रीकृष्ण मंदिर जाएँ. भगवान को प्रसाद चढ़ाएँ और पुजारी से विनती कर पोशाक को श्रीकृष्ण के चरणों से छुआकर वापिस ले ले. इस पोशाक को बाद में किसी गरीब बालक को दान कर दें. पोशाक ऎसी लें जो कोई बच्चा पहन सकें.

5) होलिका दहन के अगले दिन धुलैण्डी (फाग) पर सबसे पहले अपने इष्ट को गुलाल-अबीर अर्पित करें. यदि आपको पता नहीं है कि आपके इष्ट कौन है तब भगवान के चित्र पर थोड़ा गुलाल-अबीर लगाएँ. अपने घर के ईशान कोण का पूजन कर वहाँ भी गुलाल अर्पित करें. ऎसा करने पर निवास स्थान के सभी वास्तु दोषों का अंत हो जाएगा.

6) जलती हुई होली में गेहूँ की कुछ बालियों को लेकर सेक लें. बाद में इन सिकी हुई बालियों में से गेहूँ के दाने अलग कर उन्हें खा लें. ऎसा करने से व्यक्ति एक साल तक निरोगी रहता है.

7) होलिका दहन से पहले यदि होली को एक नए वस्त्र का टुकड़ा अर्पित किया जाए तब टुकड़ा अर्पित करने वाले को नवीन वस्त्रों का लाभ होता है.

Advertisements
%d bloggers like this: