माघ माहात्म्य – पांचवाँ अध्याय

दत्तात्रेय जी कहते हैं कि हे राजन! एक प्राचीन इतिहास कहता हूँ. भृगुवंश में ऋषिका नाम की एक ब्राह्मणी थी

पढ़ना जारी रखें