अश्विनी नक्षत्र

भचक्र में शून्य से 13 अंश 20 कला तक का विस्तार अश्विनी नक्षत्र के अधिकार में आता है. अश्विनी नक्षत्र दो

Continue reading

error: Content is protected !!