आरती श्रीरामचन्द्र जी की

श्री रामचन्द्र कृपालु भजु मन हरण भव भय दारुणं. नव कंजलोचन, कंज – मुख, कर – कंज, पद कंजारुणं.. कंन्दर्प

Continue reading

error: Content is protected !!