माघ माहात्म्य – ग्यारहवाँ अध्याय

यमदूत कहने लगा कि हे वैश्य! मनुष्य को सदैव शालिग्राम की शिला में तथा वज्र या कीट(गामति) चक्र में भगवान

पढ़ना जारी रखें