कार्तिक माह माहात्म्य – पांचवाँ अध्याय

प्रभु मुझे सहारा है तेरा, जग के पालनहार। कार्तिक मास माहात्म की, कथा करूँ विस्तार।। राजा पृथु बोले – हे

पढ़ना जारी रखें

कार्तिक माह माहात्म्य – चौथा अध्याय

माता शारदा की कृपा, लिखूं भाव अनमोल। कार्तिक माहात्म का कहूं, चौथा अध्याय खोल।। नारदजी ने कहा – ऎसा कहकर

पढ़ना जारी रखें