श्री लक्ष्मी अष्टोत्तर शतनामावली

वन्दे पद्ममकरां प्रसन्नवदनां सौभाग्यदां भाग्यदां, हस्ताभ्या-अभयप्रदां मणिगणैर्नानाविधैर्भूषिताम्। भक्ताभीष्टफलप्रदां हरिहर-ब्रह्मादिभि: सेवितां, पाश्वे पंकज-शंख-पद्म-निधिभिर्युक्तां सदा शक्तिभि:।।            

पढ़ना जारी रखें