कन्या विवाह में विलम्ब के उपाय

लाख प्रयास करने पर भी कई बार कन्या के विवाह में बार-बार अड़चने आती रहती हैं जिससे माता-पिता मानसिक परेशानी से घिर जाते हैं. कन्या के विवाह की अड़चन अथवा विलम्ब को दूर करने के कुछ उपाय बताए जा रहे हैं जिन्हें करने पर शीघ्र विवाह के योग बनते हैं. यदि कोई लड़की अपना मनोवांछित…

पाप-प्रशमन स्तोत्र का महत्व

कई बार जाने-अनजाने मनुष्य से पाप हो जाता है अथवा होता रहता है. भूलवश अथवा जानकर किए गए पाप से मुक्ति के लिए पाप-प्रशमन स्तोत्र का पाठ किया जाता है. इस स्तोत्र का पाठ करने अथवा सुनने मात्र से मनुष्य के संचित पापों का निवारण हो जाता है. जब कभी भी व्यक्ति का मन परायी…

मार्कण्डेय प्रोक्त मृत्युशमन “महामृत्युंजय स्तोत्र”

मार्कण्डेय मुनि द्वारा वर्णित “महामृत्युंजय स्तोत्र” मृत्युंजय पंचांग में प्रसिद्ध है और यह मृत्यु के भय को मिटाने वाला स्तोत्र है. इस स्तोत्र द्वारा प्रार्थना करते हुए भक्त के मन में भगवान के प्रति दृढ़ विश्वास बन जाता है कि उसने भगवान “रुद्र” का आश्रय ले लिया है और यमराज भी उसका कुछ बिगाड़ नहीं…

शनि की ढ़ैय्या व साढ़ेसाती के उपाय

शनि की ढैय्या तथा साढ़ेसाती से मिलने वाले कष्टों को दूर करने के बहुत से उपाय हैं जिनमें से कुछ उपायों के विषय में पाठकगणों को इस लेख के माध्यम से अवगत कराया जा रहा हैं. इन उपायों में से कोई भी उपाय पूरी श्रद्धा तथा विश्वास से करने पर अवश्य ही लाभ मिलता है….

गण्डमूल नक्षत्र 2017

27 नक्षत्रों में से 6 ऎसे नक्षत्र हैं जिन्हें गण्डमूल नक्षत्र कहा गया है. इनमें 3 नक्षत्र केतु के तो बाकी तीन बुध के नक्षत्र हैं. केतु के अश्विनी, मघा व मूल नक्षत्र हैं तो बुध के आश्लेषा, ज्येष्ठा व रेवती नक्षत्र गण्डमूल कहे जाते हैं. गण्डमूल नक्षत्रों में एक नक्षत्र की समाप्ति पर दूसरे…