श्री शनि चालीसा

  दोहा जय गणेश गिरिजा सुवन, मंगल करण कृपाल। दीनन के दुख दूर करि, कीजै नाथ निहाल॥ जय जय श्री शनिदेव प्रभु, सुनहु विनय महाराज। करहु कृपा हे रवि तनय, राखहु जन की लाज॥ जयति जयति शनिदेव दयाला। करत सदा भक्तन प्रतिपाला॥ चारि भुजा, तनु श्याम विराजै। माथे रतन मुकुट छबि छाजै॥ परम विशाल मनोहर…

श्री दुर्गा चालीसा

नमो नमो दुर्गे सुख करनी । नमो नमो अंबे दुख हरनी ।। निरंकार है ज्योति तुम्हारी । तिहूं लोक फैली उजियारी ।। शशि ललाट मुख महाविशाला । नेत्र लाल भृकुटि विकराला ।। रूप मातु को अधिक सुहावे । दरश करत जन अधिक सुख पावे ।। तुम संसार शक्ति लै कीना । पालन हेतु अन्न धन…

शिवषडाक्षरस्तोत्रम

ऊँकारं विन्दुसंयुक्तं नित्यं ध्यायन्ति योगिन: । कामदं मोक्षदं चैव ऊँकाराय नमो नम: ।।1।। नमन्ति ऋषयो देवा नमन्त्यप्सरसां गणा: । नरा नमन्ति देवेशं नकाराय नमो नम: ।।2।। महादेव महात्मानं महाध्यानं परायणम । महापापहरं देवं मकाराय नमो नम: ।।3।। शिवं शान्तं जगन्नाथं लोकानुग्रहकारकम । शिवमेकपदं नित्यं शिकाराय नमो नम: ।।4।। वाहनं वृषभो यस्य वासुकि: कण्ठभूषणम । वामे…

श्री लक्ष्मी चालीसा

दोहा मातु लक्ष्मी करि कृपा, करो ह्रदय में बास । मनोकामना सिद्ध करि, पुरवहु मेरी आस ।। सोरठा यही मोर अरदास, हाथ जोड़ विनती करूं । सब विधि करौ सुवास, जय जननि जगदंबिका ।। चौपाई सिंधु सुता मैं सुमिरौं तोही । ज्ञान बुद्धि विद्या दो मोही ।। तुम समान नहिं कोइ उपकारी । सब विधि…

श्री शिव चालीसा

जय गणेश गिरिजा सुवन, मंगल मूल सुजान । कहत अयोध्यादास तुम, देउ अभय वरदान ।। जय गिरिजापति दीनदयाला । सदा करत संतन प्रतिपाला ।। भाल चंद्रमा सोहत नीके । कानन कुण्डल नागफनी के ।। अंग गौर सिर गंग बहाए । मुण्डमाल तन क्षार लगाए ।। वस्त्र खाल बाघंबर सोहै । छवि को देखि नाग मुनि…

श्री हनुमान चालीसा

दोहा श्री गुरु चरन सरोज रज, निज मन मुकुरु सुधारी । बरनउं रघुबर बिमल जसु, जो दायकु फल चारि ।। बुद्धिहीन तनु जानिके, सुमिरौं पवन कुमार । बल बुद्धि विद्या देहु मोहिं, हरहु कलेश विकार ।। जय हनुमान ज्ञान गुन सागर । जय कपीश तिहुं लोक उजागर ।। रामदूत अतुलित बल धामा । अंजनिपुत्र पवनसुत…

श्री गणेश चालीसा

यदि सुबह सुवेरे नियमित रुप से गणेश चालीसा का पाठ किया जाए तो घर में खुशहाली रहती है. घर-परिवार में सुविधा-संपन्नता बनी रहती है. इस पाठ के करने से परिवार में बरकत बनी रहती है. आइए गणेश चालीसा का पाठ आरंभ करें. दोहा – Doha एकदन्त शुभ गज वदन विघ्न विनाशक नाम । श्रीगणेश सिद्धि…

नामकरण संस्कार

भारतीय ज्योतिष में नामकरण संस्कार को सोलह संस्कारों में से एक संस्कार के रुप में महत्ता प्राप्त है. व्यक्ति के जीवन में नाम का व्यवहारिक ही नही अपितु धार्मिक तौर पर भी खास महत्व है. नाम का चयन करते वक्त यह देखा जाता है कि नाम सुन्दर होने के साथ-साथ अर्थपूर्ण भी अवश्य होना चाहिए…..

मंत्र जाप

भारतीय संस्कृति में मंत्र जाप की परंपरा पुरातन काल से ही चली आ रही है. मंत्र के जाप द्वारा आत्मा, देह और समस्त वातावरण शुद्ध होता है. छोटे से मंत्र अपने में असीम शक्ति का संचारण करने वाले होते हैं. इन मंत्र जापों के द्वारा ही व्यक्ति समस्त कठिनाईयों और परेशानियों से मुक्ति प्राप्त कर…

गणेश जी के 108 नाम

आधुनिक समय में अधिकतर सभी व्यक्ति किसी ना किसी परेशानी से त्रस्त रह रहे हैं. इस परेशानी को बहुत हद तक कम किया जा सकता है यदि सुबह के समय गणेश जी के 108 नाम लिए जाएँ. गणेश जी कोवैसे भी विघ्नहर्त्ता कहा गया है. गणेश जी के 108 नाम निम्नलिखित हैं :- 1) बालगणपति…

श्री गणेश चालीसा

जय जय जय वंदन भुवन, नंदन गौरि गणेश । दुख द्वंद्वन फंदन हरन, सुंदर सुवन महेश ।। जयति शंभु सुत गौरी नंदन । विघ्न हरन नासन भव फंदन ।। जय गणनायक जनसुख दायक । विश्व विनायक बुद्धि विधायक ।। एक रदन गज बदन विराजत । वक्रतुण्ड शुचि शुंड सुसाजत ।। तिलक त्रिपुण्ड भाल शशि सोहत…

राशि क्या है

राशि शब्द का अर्थ विभिन्न तारों का समूह है. आकाश में तारे विशेष प्रकार की आकृति ग्रहण करते हैं जिसके आधार पर राशियों के नाम दिये गये हैं. भारतीय ज्योतिष शास्त्र में केवल सत्ताइस नक्षत्रों, बारह राशियों तथा नवग्रहों प्रधानता दी गई है. जब कि आकाश मंडल में 88 राशि समूह है. इनका आपके ऊपर कोई…